There is much more

to being a patriot and a citizen

than reciting the anthem or raising a flag.

 

भारत की सभ्यता और भारत की संस्कृति हमारा गौरव भी हैं, और हमारा उत्तरदायित्व भी.

इनका आदर करना और इन्हें सम्मान सहित पुनःस्थापित करना हमारा कर्त्तव्य है.

इस क्षण से इस कर्त्तव्य का पालन करना हमारा संकल्प है.

 

The Indian civilization and Indian culture are not just our pride, but our responsibility.

It is our duty to respect and restore them.

Starting this very moment, I pledge to fulfil this duty.